Brand Virat Kohli highest in per day endorsement fees

 

Virat kohli - highest paid indian cricketer

एक दिन में अगर 5 करोड़ रुपये मिले तो और क्या चाहिए !!

कमाई के मामले में Mukesh Ambani हो या Sunil Mittal – इनकी कहानियाँ बड़ी मज़ेदार है। बहरहाल ये तो व्यापारी है इसलिए इनके अलग – अलग तरह के व्यापार की बदौलत इनके पास पैसा आता है।

एक क्रिकेटर एक दिन में ज़्यादा से ज़्यादा कितनी कमाई कर सकता है ?

India's captain Virat Kohli
India’s captain Virat Kohli –AFP PHOTO / INDRANIL MUKHERJEE

खेलने के लिए आजकल बड़ी अच्छी फीस मिलने लगी है और अगर आप एक दिन के खेल की फीस मे कॉन्ट्रैक्ट फीस के एक दिन के हिसाब को भी जोड़ दे तो भी 1 करोड़ नहीं बनते।

अब आप ध्यान से पढ़िए – Virat Kohli एक दिन में  5 crore rupees की कमाई का रिकॉर्ड बना चुके है।

इसका मतलब ये नहीं है कि वह हर रोज़ 5 करोड़ कमा रहे है पर एक दिन में 5 करोड़ की कमाई का रिकॉर्ड तो बना लिया ही है।

किसी भी Ad endorsement के लिए भारत में किसी मशहूर फ़िल्मी हस्ती ने भी इतनी बड़ी फीस नहीं ली। शाहरुख खान ने भी जो सबसे बड़ा कॉन्ट्रैक्ट किया उसमे भी उन्हें एक दिन के 3 -3.5 करोड़ मिले। आमिर खान का रिकॉर्ड भी यही है और भारत के पिछले क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भी।

Virat Kohli अपने एक नए contract की बदौलत इन सभी से आगे निकल गये और इस नए contract में उन्होंने एक दिन के काम की 5 crore फीस ली है।

Virat Kohli इससे पहले 2.5 – 4 crore ले रहे थे लेकिन अब उन्हें बहुत बड़ा छलांग मिला है।

Virat Kohli का Pepsi के साथ new Ad endorsement contract

virat kohli and pepsi contract
AFP PHOTO / PUNIT PARANJPE

Virat Kohli ने यह शुरुआत गर्मी से राहत देने वाले Pepsi के साथ की। वे उनके Brand ambassador  तो पहले से है लेकिन पिछला कॉन्ट्रैक्ट खत्म होने पर कोहली नए कॉन्ट्रैक्ट में अनानाकानी कर रहे थे।

उन्हें जानने वाले कहते है कि वे हाल के दिनों की कोला से नुकसान के खबरों की वजह से इस कॉन्ट्रैक्ट को आगे नहीं बढ़ाना चाहते थे। दूसरी तरफ बाज़ार के जानकार कहते है कि इस आनाकानी की बदौलत विराट कोहली अपनी फीस बड़वा रहे थे।

आखिरकार उनकी फीस बढ़ गई और वे न सिर्फ  महेंद्र सिंह धोनी, शाहरुख खान और आमिर खान से भी आगे निकल गए। यह सभी खबरे बाज़ार के सूत्रों के अनुसार है।

Virat Kohli और Pepsi इस बारे में कुछ नहीं बोल रहे।

Virat Kohli का Pepsi के साथ मौजूदा contract, 30 April तक है और Pepsi नहीं चाहती कि new contract रुके और वे IPL के दिनों में Virat Kohli की लोकप्रियता का फायदा न उठा पाये। इसलिए कई महीनो पहले कोशिश शुरू कर दी थी।

वैसे जब आप यह खबर पड़ते है कि किसी cricketer ने एक कंपनी के लिए Brand ambassador बनने का कॉन्ट्रैक्ट किया है तो क्या आप को पता है कि वह उस कंपनी के लिए कितने दिन काम करता है ?

आमतौर पर यह माना जाता है कि ऐसे एक कॉन्ट्रैक्ट में कोई भी cricketer 2 -4 दिन से ज़्यादा काम नहीं करता।

इसका मतलब यह हुआ कि इतना सा काम और खूब सरे आम।

अगर Virat Kohli एक दिन के लिए 5 crore rupees ले रहे है तो contract लगभग 20 crore का हुआ होगा।

पर देखा जाए तो कोई भी कंपनी किसी की सगी नहीं होती।

Dhoni ने 11 साल तक Pepsi के brand ambassador रहे। ज्यों ही Dhoni की cricket का ग्राफ ज़रा सा नीचे हुआ तो PepsiCo ने नाता तोड़ने में ज़्यादा देर नहीं लगाई।

Dhoni के बाद अगले star cricketer के तौर पर हर किसी ने Virat Kohli का नाम लिया और यही वजह है कि किसी भी कीमत पर PepsiCo यह नहीं चाहती थी कि कोई और cola company Virat Kohli को हथिया ले।

Virat Kohli signs contract with sports brand Puma

अभी कुछ ही दिन पहले की बात है Virat Kohli भारत के ऐसे पहले खिलाड़ी बने जिसने एक ही कंपनी के साथ 8 साल का कॉन्ट्रैक्ट किया।

virat kohli and puma 8 year contract

Virat Kohli ने जर्मनी के sports brand Puma के साथ 8 साल का 110 करोड़ रुपए का contract किया।

List of Virat Kohli’s Endorsements and Contracts

इस समय Virat Kohli के पास जो contract है उनमे से Pepsi, Audi luxury car ,MRF tyres , Tissot watch, Gione Phones, Boost milk drink, Colgate toothpaste, Vicks के contract सबसे बड़े है।

इनके अलावा USL, TVS, Nitesh estates, Herballife, Smaash और Manyavar (menswear)  भी है।

Virat Kohli and MRF endorsement
Virat Kohli and MRF endorsement/ AFP PHOTO / PUNlT PARANJPE

 

Virat kohli and tissot watches
Tissot Endorsement
Virat Kohli Investments

इस समय विराट कोहली न सिर्फ 18 brands endorsement कर रहे है , उन्होंने Chisel Fitness नाम के gym chain में भी पैसा लगाया है।

इतना ही नहीं वे fashion label Wrogn  और Nazara technologies में भी पैसा लगा चुके है। sportsconvo.com, an online platform for sports lovers (london based technology startup).

FC Goa ( Indian Super League की franchise जो की इस समय भारत की सर्वश्रेष्ठ football league है।)

Bengaluru Yodhas (a professional wrestling league team owned by JSW)

UAE Royals ( International Premier Tennis League में Dubai की Tennis team)

 

Virat Kohli’s Net worth 2017

October 2016 में duff and phelps नाम की विष्व की मशहूर corporate advertising firm ने जो आंकड़े जारी किये थे उसके अनुसार Virat Kohli की brand value $92 million थी।

यह बहुत बड़ी रकम है लेकिन असली बात तो यह है कि उसके बाद से Virat Kohli signed new Pepsi and Puma contracts. उनकी बदौलत Virat की brand value में कम से कम 30 % की बड़ौती और हो गई होगी।
विशेषज्ञ तो यह मान कर चल रहे है कि इन आंकड़ों के हिसाब से तो विराट कोहली भारत के सभी खिलाड़िओ को तो पीछे छोड़ चुके है , दुनिया के अन्य दूसरे खेलो के खिलाड़िओ की बिरादरी में पहुँच गए है।

धोनी और तेंदुल्कर की कमाई की बड़ी चर्चा थी लेकिन अब कोहली इनसे भी आगे निकल गए है।
मशहूर फुटबॉल खिलाड़ी Cristiano Ronaldo की पिछले साल की कमाई $ 88 million थी। यह रकम Forbes magazine के सालाना सर्वे में छपी थी। इसमें $ 32 million की कमाई endorsement से आई थी।

दूसरे नंबर पर मशहूर फुटबॉल खिलाडी Lionel Messi थे और उनकी कुल कमाई $81.4 million थी जिसमे endorsement की हिस्सेदारी $28 million थी।

Forbes की लिस्ट में किसी cricketer का नाम नहीं था। जब Forbes में अगली लिस्ट छपेगी तो उसमे Virat Kohli का नाम ज़रूर होगा।
विराट भाई अब पैसे तो बहुत हो गए इसलिए क्रिकेट पर ध्यान दो। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ झगड़ो के चक्कर में रन नहीं बने और इसकी कसर अगली  सीरीज में निकालने की तैयारी करो।

Virat Kohli ‘s Personal Information

  • Net Worth: $63 Million (estimated)
  • Birth Place: Delhi, India
  • Date of Birth: November 5, 1988
  • Height: 5 feet 9 inches (1.75 m)
  • Mother: Saroj Kohli
  • Father: Prem Kohli
  • Siblings: 1 brother (Vikash Kohli), 1 sister (Bhavna Kohli)
  • Dating: Anushka Sharma
Virat kohli and anushka sharma
Indian cricketer Virat Kohli (L) and actress Anushka Sharma pose for a photograph during designer Manish Malhotra’s 50th birthday in Mumbai on December 5, 2016. / AFP PHOTO /
  • लेखक

चरनपाल सिंह सोबती

 

India’s First Sports Museum – Fanattic Sports Museum in Kolkata

म्यूजियम का नामफ़ॉनेटिक स्पोर्ट्स म्यूजियम और ये म्यूजियम बोरिया माज़ुम्दार की मेहनत का फल है ।

 Fanattic Sports Museum- An Initiative by Prof. Boria Majumdar

fanatic sports museum

कोलकत्ता (Kolkata) में भारत का पहला मल्टी स्पोर्ट ( सभी खेलो का ) sports museum म्यूजियम का पिछले दिनों उद्घाटन हुआ । और ख़ुशी की बात यह है की इसमें क्रिकेट की हिस्सेदारी सबसे ज़्यादा है और हो भी क्यों न देश का सबसे पसंदीदा खेल है ।

इसके उद्घाटन (inauguration)में सचिन तेंदुलकर , सौरव गांगुली , अभिनव बिंद्रा , देवेंद्र झाझरिया एव दीपा मालिक मौजूद थे ।

BCCI ने कई साल पहले फैसला लिया था की वे मुम्बई में एक क्रिकेट म्यूजियम ( sports museum of Cricket) बनाएगे । बहरहाल हर तरह की सुविधाओ के बावजूद BCCI म्यूजियम नहीं बना सका ।

क्रिकेट( Cricket) के एक अच्छे म्यूजियम (Museum) का इंतज़ार तो अभी तक चल रहा है लेकिन कुछ शुरुआत तो हुई है ।

Fanattic Sports Museum

सिर्फ भारतीय खेलो (Indian Sports) को नहीं समर्पित यहाँ बाहर देशो (International Sports) की भी चीज़े है जैसे की ऑटोग्राफ (Autographed) स्मृति चिन्ह (Memorabilia) टेनिस के दिगज रॉजर फेडरर (Roger Fedrer) और राफेल नडाल (Rafel Nadal)।

बोरिया मजूमदार (Boria Majumdar) ने कहा की उन्हें दो दशक लगे इस म्यूजियम की कलेक्शन और स्थापना में ।उन्होंने  बताया कि जब वे ऑक्सफ़ोर्ड (Oxford, UK) में पड़ते थे तो उन्होंने प्रुडेंशियल कप (Prudential Cup Memorabilia) मेमोरेबीलिया देखा ।’ तब मैंने सोचा था की हम भारत में ऐसा कुछ क्यों नहीं करते । मैंने क्रिकेट से जुड़ी यादगार चीज़ों का संकलन शुरू किया और अब यहाँ प्रदर्शित ज़्यादातर सामान मैंने दिया है ।’
फ़ॉनेटिक स्पोर्ट्स म्यूजियम (Fanattics Sports Museum) का टाई उप नेशनल फुटबॉल म्यूजियम जो के विष्व का सबसे प्रसिद्ध फुटबॉल म्यूजियम मैनचेस्टर में है ।(National Football Museum , Manchester, UK.)

6700 sq feet में फैला यह म्यूजियम खेलो के शौकीन को बहुत पसंद आएगा ।

इस म्यूजियम  (Museum)में रखे गए सामान में से कुछ चीजें है :

  • यहाँ सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के वे ग्लव्स (gloves) है जो उन्होंने 100 वा शतक (century) बनाते हुए पहने थे ।
  • लियोनल मेस्सी (Lionel Messi) के बूट है ।
  • रियो (Rio) में 2016 में रजत पदक जीतने के बाद पी वी सिंधू ने अपनी ऑटोग्राफ सहित जर्सी दी साथ में हरियाणा की रियो पैराओलिंपिक में पदक जीतने वाली दीपा मलिक  और देवेंद्र झाझरिया ने भी ऑटोग्राफ के साथ  टी – शर्ट दी  ।
  • हॉकी के दिगज मेजर ध्यान चंद के  अन्य हॉकी खिलाड़ियो से जुडी चीज़े भी है इस म्यूजियम में ।
  • एक शतरंज (chess) का बोर्ड जिस पर विश्वनाथन आनंद के ऑटोग्राफ है ।
  • भारत में प्रकाशित पहली खेल पत्रिका -1837 की बंगाल क्वार्टरली स्पोर्टिंग मैगज़ीन देख सकते है ।
  • भारत के पहले टेस्ट कप्तान सीके नायडू का पासपोर्ट और पासबुक है ।
  • इसके अलावा क्रिकेटर सौरव गांगुली , शूटर अभिनव बिंद्रा और बहुत से अन्य खिलाड़ियो से जुड़ी चीज़े है ।

Fanatic sports museumउद्घाटन पर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा – ‘मै इस फैनेटिक स्पोर्ट्स म्यूजियम की तुलना विष्व के अन्य स्पोर्ट्स म्यूजियम से करूँगा। मैंने बाहर दो स्पोर्ट्स म्यूजियम देखे है – ब्रैडमैन म्यूजियम (Bradman Museum)और एक मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (Melbourne Cricket Ground) का म्यूजियम । कोलकत्ता का म्यूजियम भी उन जैसा ही अच्छा है । आज के युवा वर्ग को अगर पिछले दौर के खिलाड़ियो के प्रदर्शन से प्रभावित करना है  ऐसे तो म्यूजियम ज़रूरी है। हमारे देश के बहुत से बेहतरीन खिलाडी जो अब नहीं है उन्हें हम उनके गोल्ड , सिल्वर और ब्रोंज मेडल्स से याद कर सकते है जो उन्होंने हमारे देश के लिए जीते थे । सचिन ने और कहा की यह जगह सभी खेलो के लिए है इसलिए मैं सभी नौजवानों से कहूंगा की इस (sports museum) म्यूजियम में ज़रूर आए और खेलो के इतिहास को जाने।’

sport museum- sachin tendulkar

म्यूजियम की सरहाना करते हुए सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने कहा ‘ इस तरह के कदम क्रिकेट मैच में तो लाभदायक नहीं होते परंतु खेलो के प्रोत्साहन के लिए बहुत ज़रूरी होते है । इस म्यूजियम के माध्यम से हम  सचिन (Sachin), ब्रैडमैन (Bradman) , इआन चैप्पेल (Ian Chapell) या धोनी  (M.S Dhoni) के करियर के बारे में जान सकते है । आगे वे कहते है कि मै आशा करता हूँ की आप सब यहाँ आ कर वो यादगार लम्हो को दुबारा जिएंगे जो खेल दिग्गजो ने अपनी मेहनत से कमाए है  क्योकि जब आप वो बल्ला देखेगे जिससे सचिन ने सो वी शतक बनाई  तो बहुत गर्व महसूस होगा ।’

Fanattic sports museum- saurav ganguly

अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) ने कहा – ‘ मैंने लुसेन में ओलिंपिक म्यूजियम देखा है । जब मैं इस कोलकत्ता के म्यूजियम को देख रहा था तो मुझे लग रहा है की यह भी उसके जैसा ही है । बहुत अच्छा लग रहा है यहाँ आकर । अभिनव ने म्यूजियम की सरहाना करते हुए कहा की ऐसे कदमी से ही हम लोगो में खेलो का प्रोत्साहन बड़ा सकते है ।’

जानकारी

ये म्यूजियम सोमवार (Monday off) के अलावा बाकी सभी दिन खुला है और इसका प्रवेश शुल्क 100 रुपए और छात्रों के लिए 50 रुपए तथा नेशनल लेवल स्पोर्ट्सपर्सन के लिए निशुल्क है ।

समय -सुबह 11:00 से शाम 7:00

अधिक जानकारी- fanatticsportsmuseum.com

 

 

M.S Dhoni – King of all Indian Cricket Captains

आप धोनी (Dhoni) का नाम लेते है तो सबसे पहले दिमाग में आता है – “कप्तान”

“उन्होंने (Dhoni) कई बार मुझे ड्राप होने से बचाया और कई मोके दिए खुद को साबित करने के – धोनी आप हमेशा मेरे कप्तान रहेंगे” – विराट कोहली  (भारतीय टीम कप्तान )

जब 2005 में लहराते बालो वाला M.S Dhoni भारतीय क्रिकेट (Indian cricket) में आया तो किसी को उम्मीद नहीं थी की यही खिलाड़ी एक दिन कप्तान के रूप में एक कभी न भूल सकने वाली कहानी लिख कर जाएगा । एक ऐसी कहानी जिसमे भारतीय क्रिकेट इतिहास की कई विजय गाथाए शामिल होती जाएंगी ।

[cml_media_alt id='87']dhoni man of the series in 2005[/cml_media_alt]
Indian Man-of-the-Series Mahendra Singh Dhoni poses with his trophy after the seventh and final one day international (ODI) match between India and Sri Lanka in Vadodara, 12 November 2005. India won the match by five wickets and the series 6-1. AFP PHOTO/INDRANIL MUKHERJEE / AFP PHOTO / INDRANIL MUKHERJEE
Indian cricket team Captain Mahendra Singh Dhoni (C) celebrates his victory, 24 September 2007, against Pakistan at the end of the Twenty20 cricket world championship final match between India and Pakistan at Wanderers cricket stadium in Johannesburg.
AFP PHOTO/GUERCIA

2007 के वर्ल्ड T -20 चैंपियंस (champions) बनने से शुरू हुआ इस कप्तान का सफर 2009 में ICC Test No. 1 की रैंकिंग के साथ होता हुआ 2011 के World Cup champions बनने तक पहुँच गया और थोड़े ही दिनों बाद इसमें ICC Champions Trophy  भी शामिल हो गई । इस तरह ईसीसी (ICC) के तीनो बड़े ख़िताब जीतने वाले एक मात्र कप्तान बनने का गौरव भी प्राप्त कर लिया । अब इस कप्तान ने बड़ी समझदारी से साथ भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने की ज़िम्मेदारी विराट कोहली (Virat Kohli) को दे दी है ।

2007 World Cup में India  का सफर बेहद निराशाजनक रहा था जिसके बाद द्रविड़ ने कुछ दिनों में ही कप्तानी छोड़ दी। अब सवाल यह था की कौन टीम में फिर से रंग ले आए और जीत की भूक जगाए ?

21 वी शताब्दी के शुरू में यह काम गांगुली (Ganguly) ने किया था लेकिन अब गांगुली युग ख़त्म हो रहा था । गांगुली की कप्तानी में खेलते हुए अपने शुरुआती दौर में ही Dhoni ने श्रीलंका के खिलाफ 183 रनों की तूफानी पारी खेलकर सबको एहसास कराया था कि किस क्षमता के खिलाडी ने क्रिकेट में कदम रख दिया है । उस सीरीज में मन ऑफ़ द सीरीज वे ही थे । अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में महज 3 साल पुराना यह खिलाड़ी अपने कड़े और हैरान कर देने वाले फैसलो से भारतीय टीम में कप्तानी की एक अलग परिभाषा लिखकर जाएगा कभी सोचा न था ।

[cml_media_alt id='80']Dhoni and ganguly[/cml_media_alt]

World T -20 के आयोजन के समय एक प्रयोग के तौर पर Dhoni को आजमाया गया और इस पहले (first) World T -20 Tournament में इंडिया विजेता बन कर उभरा । इसके बाद धोनी ने अपनी कप्तानी पर सवाल उठाने का किसी को मौका ही नहीं दिया और एक के बाद एक जीतो से आलम ये बन गया की कप्तान और धोनी आपस में पर्यावाची से लगने लगे । कहते है जो शुरू हुआ है उसे ख़तम होना ही है लेकिन यह भी सच है की धोनी ने भारतीय क्रिकेट में कई स्मरणीय लम्हे दिखाए ।

[cml_media_alt id='86']MS Dhoni with ICC T-20 trophy[/cml_media_alt]
Mahendra Singh Dhoni gets his hands on the ICC World Twenty20 trophy
[cml_media_alt id='88']champions trophy[/cml_media_alt]
Dhoni with champions trophy

110 one-day, 41 T-20 और  27 tests में भारत की जीत की कहानी लिखी । यह कोई मामूली रिकॉर्ड नहीं है , यह वह Cricket record है जो उन्हें अब तक का सबसे सफल भारतीय कप्तान बनाता है । इन रिकॉर्ड में 2007 का  T -20 वर्ल्ड कप और  2011 के विशवक्प  (World Cup) जैसे ख़िताब जोड़ लिए जाए तो यह आशचर्यजनक कामयाबी बन जाता है ।

[cml_media_alt id='96']world cup final - dhoni's final sixer[/cml_media_alt]
Indian captain Mahendra Singh Dhoni (L) hits a six to win against Sri Lanka as teammate Yuvraj Singh reacts during the Cricket World Cup 2011 final at The Wankhede Stadium in Mumbai on April 2, 2011. India beat Sri Lanka by six wickets. AFP PHOTO/Indranil MUKHERJEE / AFP PHOTO / INDRANIL MUKHERJEE
[cml_media_alt id='89']dhoni with 2011 cricket world cup[/cml_media_alt]
MS Dhoni with 2011 world cup
[cml_media_alt id='79']champions trophy[/cml_media_alt]
champions trophy

धोनी ने अचानक कप्तानी क्यों छोड़ी ?

India vs England सीरीज़ के लिए टीम चुने जाने से केवल दो दिन पहले ही अचानक धोनी (Dhoni) ने one -day की भी कप्तानी छोड़ दी ।

लगभग 2 वर्ष पहले “नए खिलाडियो को मौका देने का वक्त आ गया है “ कहकर उन्होंने test matches की कप्तानी से सन्यास (resign) का फैसला लिया था ।

इस बार भी धोने ने दो बड़ी वजह बताई । पहला यह की वो नए कप्तान को वक्त देना चाहते है और दूसरा की विराट और उनकी कप्तानी शैली में अंतर है और यह अंतर खिलाड़ियो की अस्तव्यस्तता (confusion) बढ़ाता है इसलिए तीनो ही फॉर्मेट में एक ही कप्तान होना चाहिए ।

(England) इंग्लैंड के खिलाफ अगर अभ्यास मैच अपने देखा हो तो पता ही होगा कि वो किसी अंतराष्ट्रीय मैच से कम नहीं था । उन्हें आखरी बार कप्तानी करते देखने के लिए लोग अभ्यास मैच में भी मैदान पर उमड़ पड़े थे ।

Mahendra Singh Dhoni का यह फैसला भी कम सनसनीखेज नहीं रहा । खबरे आई कि धोनी ने यूं ही कप्तानी नहीं छोड़ी बल्कि उन्हें ऐसा करने के किए चयनकर्ताओ और बोर्ड की ओर से निर्देश जारी किया जा चूका था । हाँ इसी सीरीज में कप्तानी छोड़ दे, ऐसा भी कुछ नहीं था । Dhoni ने BCCI को कप्तानी छोड़ने संबंधी जो mail किया उससे भी यही बात सामने आई ।

उस मेल में लिखा था कि  “मैं भारत के एकदिवसीय कप्तान के पद से इस्तीफा देता हूँ और विराट का मेंटर बनने के लिए तैयार हूँ ।”

क्या किसी ने उनसे पहले ही विराट का मेंटर बन जाने की बात कही थी ?

यह भी कहा जा रहा है जब धोनी Ranji trophy match के दौरान Jharkhand में मेंटर के रूप में मोजूद थे तब चयनसमिति के अध्यक्ष MSK prasad और BCCI CEO Rahul Johri से काफी देर बात करते देखा गया ।
माना जा रहा है की Nagpur Ranji Trophy match के दौरान ही MSK Prasad ने Dhoni से कप्तानी पर पुनः विचार करने को कहा था । पर यह एक विवादग्रस्त मुद्दा है ।

लेकिन धोनी की कप्तानी छोड़ने के बाद प्रसाद की टिपणी साफ़ इशारा करती है कि चयनसमिति विराट को हर फॉर्मेट का कप्तान बनाने के बारे में गहराई से सोचने लगी थी ।

प्रसाद ने कहा था कि  “मैं सही समय पर लिए गए उनके फैसले की तारीफ करता हूं । वे जानते है कि विराट खुद को एक बेहतरीन टेस्ट कप्तान के रूप में साबित कर चुके है |”

मूलतः दो कारण देखे जा सके है :
  1. पहला 2015 विश्वकप में ख़राब प्रदर्शन , 2015 -16 में अपनी कमज़ोर बलेबाज़ी|
  2. दूसरी तरफ विराट की टेस्ट कामयाबी आष्चर्यजनक रही ।

विराट (Virat Kohli)  लगातार प्रभावशाली अंदाज़ में टेस्ट सीरीज दर सीरीज जीत रहे है और इनमे उनकी बल्लेबाज़ी भी बेहतरीन रही है । इसी वजह से विराट की कप्तानी की काबलियत हर जगह चर्चा का विषय बनी हुई है ।

कह सकते है की एक कप्तान के रूप में धोनी युग का अंत हो चूका है । पर देखा जाए तो हर खिलाडी का एक सूरज उगता हो और फिर वह ढलता भी है इसे ही जीवन कहते है । धोनी ने खेलजगत में देश का नाम खूब ऊँचा किया है और हम इसके आभारी है । वह एक सफल  क्रिकेटर और कप्तान रहे है  जिसकी सरहाना  उनकी टीम भी करती है । और इससे बढ़कर वह अच्छे समझदार इंसान है । अब एक खिलाडी के रूप में कितना आगे जाते है यह देखने वाली बात होगी । हमारी शुभ कामनाए उनके साथ है ।

ज़रूरी नहीं है कि पारंपरिक विकेटकीपर ही अच्छी कीपिंग करे । धोनी की विकेटकीपिंग उनकी ही तरह सदा स्थिर रही है । उनकी तेज़ रनिंग का उदहारण – मुस्ताफ़िज़ुर रहमान को रन आउट करना और दोनों पैरों के बीच से गेंद को स्टंप पर थ्रो कर मुशफिकर रहीम को पवेलियन की राह दिखाना । ये उनकी विकेटकीपिंग के कुछ ऐसे उदहारण है जिन्हें क्रिकेट प्रेमी लंबे समय तक याद रखेगे । 2016 के t -20 वर्ल्ड कप में दस्ताने उतारकर इसलिए विकेटकीपिंग की ताकी फुर्ती से गेंद पकड़कर जितनी जल्दी हो सके स्टंप पर फेक सके ।

[cml_media_alt id='93']dhoni run out mushtafizur[/cml_media_alt]
Dhoni run-out Mustafizur

[cml_media_alt id='91']MS-Dhoni-Run-out[/cml_media_alt]

धोनी अकेले ऐसे है जिन्होंने ICC के तीनो सबसे बड़े टूर्नामेंट एक कप्तान के रूप में जीते है – वर्ल्ड टी-20 , विश्व कप और चैंपियंस ट्रॉफी  । इसके अलावा टेस्ट में भी वे भारत को ICC No 1 Team बना चुके है ।

“एक कप्तान के रूप में भारतीय क्रिकेट को बुलंदिओ पर पहुचने के लिए आपका धन्यवाद् महेंद्र सिंह धोनी”

अगर मेरी ज़िन्दगी के आखरी 15 सेकंड बचे हो तो मै धोनी का विश्व कप जितने वाला छक्का देखना पसंद करूँगा – सुनील गावस्कर
उनकी लीडरशिप में भारतीय टीम ने नई उच्चाइओ को छुआ । उनके अचीवमेंट्स दशको तक  में याद किए जाएगे – राहुल जौहरी ( CEO  BCCI )
“धोनी ने हमेशा टीम को अपने से पहले रखा “- डीप दास गुप्ता ( पूर्व भारतीय क्रिकेटर )

“एक कप्तान के रूप में आपके शानदार करियर के लिए आपको बधाई “- सचिन तेंदुलकर
MS Dhoni भारत के सबसे सफलतम कप्तान के रूप में कप्तानी छोड़ रहे है – वे शानदार इंसान है और अभी भी भारतीय क्रिकेट को काफी कुछ दे सकते है – Michael Clarke (पूर्व ऑस्ट्रेलियन कप्तान )

धोनी के यादगार रिकार्ड्स

धोनी की कप्तानी का रिकॉर्ड

[cml_media_alt id='104']Dhoni captaincy record[/cml_media_alt]

  • टी-20 में कप्तान के रूप में सबसे ज़्यादा जीतो (41 ) का रिकॉर्ड अभी भी धोनी के पास है ।
  • 110 one -day match wins – Ricky Ponting (165 wins ) के बाद किसी भी कप्तान की दूसरी सबसे ज़्यादा जीते है ।
  • कीपर – कप्तान के रूप में सीमित ओवरों के 271 match रिकॉर्ड ।
  • ICC के सीमित ओवरो के तीनो बड़े टूर्नामेंट जीतने वाले एकलौते कप्तान ।
  • 199 एकदिवसीए मैचों में भारत की कप्तानी की – भारतीय रिकॉर्ड ।
  • जीते हुए मैचों में एक कप्तान के रूप में धोनी की बल्लेबाज़ी औसत  70.83 है – तीसरी सबसे अच्छी ।